Story of Hindi Sant daduji Fakir aur Pandit - Best Laptop Under 35000

Story of Hindi Sant daduji Fakir aur Pandit

संत दादू फकीर और पंडित

दादू जी एक कामिल फकीर हुए हैं। उनका जन्म मुसलमान परिवार में हुआ था। एक बार दो पंडित आपके पास इस गरज से आए कि चलकर सत्संग सुनें और गुरु धारण करें। जब उनकी कुटिया के पास पहुंचे तो देखा कि आगे एक आदमी नंगे सिर बाहर जा रहा था। पंडितों ने अपशकुन समझा की  नंगे सिर वाला आदमी मिला है।

Story of Hindi Pandit dwara Tamacha maarna

Story of Hindi Sant daduji Fakir aur Pandit in Hindi story Hindi story Hindi kahaniyan radha swomi satsang beas Hindi kahani

अपशकुन टालने के लिए उस नंगे सिर वाले व्यक्ति के सिर पर दो तमाचे मार दिए। फिर पूछा कि दादू का डेरा कहां है? उसने उंगली से इशारा करते हुए कहा कि वह रहा। जब डेरे पहुंचे तो पता चला की दादू साहिब बाहर गए हुए हैं। उन्होंने इंतजार किया। जब दादू साहिब आए और पंडितों ने देखा कि यह तो वही है जिसके सिर पर दो तमाचे मारे थे तो कांपने लगे।

Sant Dadu Dayal dwara pandito ko Maaf Karna story of Hindi

लेकिन दादू साहिब हंस पड़े और बोले लोग दो टके की हांडी लेने से पहले उसे टकोर लेते हैं आप तो गुरु धारण करने आए हो खूब परखो। जब दिल माने विश्वास करो फिर गुरु स्वीकार करो। महात्मा बड़े शांत स्वभाव के होते हैं। संतों में जो नम्रता धर्य और जमा होती है उसको बयान कर सकना संभव नहीं है। गुरु धारण करने से पहले पूरी तसल्ली कर लेनी चाहिए क्योंकि गुरु में पूर्ण विश्वास के बिना परमार्थ में उन्नत नहीं की जा सकती।

Hamen Satguru ki Pariksha Lene Ki chamta Nahin Hai story of Hindi

लेकिन अपनी जांच परख किसी काम नहीं आती। क्योंकि अगर कोई चींटी पहाड़ की लंबाई चौड़ाई नापने के लिए उत्साहित हो तो उसके इस उत्साह पर हौसले पर रोना ही आएगा। जब परमात्मा की दया मेहर होती है तो पूर्ण सतगुरु से मिला होता है। अगर कोई छोटी मछली समुद्र की लंबाई चौड़ाई और गहराई नापने लगी तो उसके इस हौसले पर रोना ही आएगा। कोई एक क्लास का बच्चा प्रोफेसर की योग्यता की परीक्षा कैसे ले सकता है।

Story of Hindi Parashar Rishi aur ladki