Narada muni cursed vishnu :The story in hindi

Narada muni cursed vishnu -भारत में पहले यह रिवाज था कि जब किसी राजकुमारी की उम्र शादी लायक होती। तो एक स्वयंबर रचा जाता जिसमें राजकुमारी खुद अपने पति को चुनती थी।
राजा की लड़की का स्वयंवर था। नारद जी ने जो भक्त शिरोमणि कहलाते थे । भगवान विष्णु की आगे प्रार्थना की कि मुझे सुंदर सा चेहरा दे दो। मैं अमुक लड़की के स्वयंवर में जाना चाहता हूं। भगवान ने इस विचार करके कि कहीं यह काम के वश में ना हो जाए । उसे बंदर का चेहरा दे दिया 

Narada muni cursed vishnu :Narad muni ka baar Rajkumari ko muh dikhana

लोगों को पीछे हटाकर नारद इस विश्वास के साथ आगे खड़े हो गए कि कन्या उसी के गले में हार डालेगी। लड़की आगे निकल गई। दिल में ख्याल आया कि शायद उसने देखा नहीं है। लोगों को हटाकर फिर आगे जा खड़ा हुआ। लड़की ने कहा बार-बार उछलता क्यों है? शीशे में अपना मुंह तो देख । जब नारद ने शीशे में अपना मुंह देखा तो बंदर का मुंह।

क्रोध में आ गया। भगवान से कहने लगा कि मैं तुझको श्राप दूंगा। विष्णु भगवान ने कहा कि मुझे सब मंजूर है लेकिन मैं अपने भक्तों को गिरते हुए नहीं देख सकता था।
मन बड़े- बड़ों को गिरा देता है लेकिन भगवान हमेशा अपने सेवकों की संभाल करता है।

Story in Hindi हिंदी कहानिया Story of Hindi

See on my facebook profile