Blind man story: andhe kaidi aur bhulbhulaiya

Blind man story-एक आदमी अंधा भी था और साथ ही गंजा भी था। थोड़ी सी गलती के कारण राजा ने उस बेचारे को एक ऐसी जेल में बंद कर दिया। जो खासतौर पर भूल भुलैया जैसी बनाई गई थी।

उस जेल के कई नकली दरवाजे थे पर बाहर जाने के लिए एक ही दरवाजा था। राजा का हुक्म था कि जो कोई उस ठीक दरवाजे को ढूंढ कर बाहर निकल जाएगा उसको छोड़ दिया जाएगा ।

काफी देर तक अंधा आदमी जेल की दीवारों के साथ असली दरवाजे को ढूंढता रहा। परंतु जब वह दरवाजे के पास आता तो अचानक उसके सिर में खुजली होने लगती।

वह सिर में खुजली करने लग जाता और दरवाजे से आगे निकल जाता। इसी तरह हर बार जब वह दरवाजे के पास आता तो उसके सिर में खुजली हो जाती और वह असली दरवाजे को ढूंढ ना पाता।

इस प्रकार वह जेल की दीवारों के साथ-साथ घूमता रहता और हर बार असली दरवाजे से आगे निकल जाता।

यही हाल हमारा है। जब मनुष्य जन्म मिलता है तो उसे मन की लज्जतो में गुजार देता है और फिर से चौरासी के चक्कर में पड़ जाते हैं। यही वक्त मुक्ति का होता है जिसे हम गवा देते हैं।

Story in Hindi हिंदी कहानिया Story of Hindi